September 24, 2022
Father Of Hindi

फ़ादर ऑफ़ हिंदी कौन है ? | Father Of Hindi Kaun Hai

Father of Hindi Kaun Hai :- हिंदी उत्तर भारत में बोली जाने वाली भाषा है। यह कुछ समुदायों की मातृभाषा भी है जिनकी भाषा मूल रूप से कुछ और थी, जैसे पाली।

हिंदी केवल महान मुग़लों द्वारा शासित भागों में बोली जाती है। मुगल न आते तो ये समुदाय पाली में बोलते। लेकिन क्या आप जानते हैं, हिंदी भाषा का जनक किसे माना जाता है ?

इस लेख में हम यह जानेंगे, कि Father Of Hindi कौन है ? और हिंदी भाषा का जनक किसे माना जाता है, इस बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करेंगे।


Hindi भाषा के आधुनिक साहित्य का जनक किसे कहा जाता है ? | Father Of Hindi

भारतेंदु हरिश्चंद्र ( जन्म 1850 ) को आधुनिक हिंदी साहित्य का जनक माना जाता है।

हिंदी एक शास्त्रीय भाषा नहीं है, न ही इसमें उतनी संस्कृत है, जितनी दक्षिण भारतीय भाषाओं में है। चूंकि संस्कृत की लिपि को हिंदी भाषियों द्वारा हिंदी के लिए अपनाया गया है, इसलिए संस्कृत को हिंदी की जननी के रूप में स्वीकार किया जाता है।

19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में हिंदी साहित्य ने अपना आधुनिक रूप ग्रहण किया। भारतेंदु हरिश्चंद्र (जन्म 1850) को आधुनिक हिंदी साहित्य का जनक माना जाता है। एक कवि, नाटक कार, उपन्यासकार, कहानीकार, लेखक और निबंध लेखक के रूप में, उन्होंने साहित्य में अपनी महान रचनात्मक प्रतिभा का प्रदर्शन किया और अपने लेखन में उग्र और पुनर्जागरण युग दोनों की सार्वजनिक भावनाओं को दर्शाया।

बीसवीं शताब्दी के पहले दो दशकों में, महावीर प्रसाद द्विवेदी ने साहित्यिक गतिविधि के व्यापक क्षेत्र में एक नई जीवन शक्ति का प्रतिनिधित्व किया। उन्हें आधुनिक हिन्दी गद्य का शिल्पी माना जाता है।

भारतेंदु हरिश्चंद्र जी की कीर्ति दूर-दूर तक फैली हुई थी। भारतेंदु हरिश्चंद्र जी हिंदी लेखकों के उन महान लेखकों में से एक थे, जिन्होंने हमारे समाज को कई रचनाएँ दीं।

उनकी कुछ रचनाएँ ऐसी थीं, जिससे समाज में चल रही प्रथाओं पर बड़ा प्रभाव पड़ा। और धीरे-धीरे लोगों की मानसिकता में बदलाव आया। उनके लेखन के प्रति झुकाव के कारण, काशी के महान विद्वानों द्वारा एक जन-सभा बुलाई गई और उस बैठक में हिंदी लेखकों को भारतेंदु हरिश्चंद्र जी ‘भारतेंदु’ की उपाधि से सम्मानित किया गया। यह उनके जीवन की महान उपलब्धियों में से एक थी।

आधुनिक हिन्दी साहित्य की शुरुआत भारतेंदु काल से हुई थी। इसीलिए भारतेन्दु हरिश्चंद्र जी को हिन्दी साहित्य का जनक कहा जाता है।


Hindi कितनी पुरानी है ?

  • आज हम जो हिंदी बोलते हैं या भारत के अधिकांश हिस्सों में आम तौर पर बोली जाती है वह काफी नई है और केवल 18वीं शताब्दी की है।
  • हिन्दुस्तानी भाषा 900 ईस्वी – 1100 ईस्वी के बीच आई जो मूल रूप से फारसी और खारी-बोली का मिश्रण है।
  • 18वीं शताब्दी तक, हिंदुस्तानी दो भाषाओं में विभाजित हो गया था, हिंदी (जिसमें संस्कृत के शब्द थे) और उर्दू (जिसमें फारसी शब्द थे)।
  • तो तकनीकी रूप से हिंदी बोलना केवल 200 वर्ष पुराना है जबकि हिंदुस्तानी लगभग 1000 वर्ष पुराना है।

Hindi का आविष्कार कब और कैसे हुआ ?

जब मुग़लों ने आकर दिल्ली को अपनी राजधानी बनाया। तो वे स्थानीय लोगों को अपनी सेना में भर्ती करना चाहते थे। इसलिए उन्होंने दिल्ली के आसपास भर्ती किया, जहां बोली जाने वाली भाषा खादी बोली थी।

सेना में जितने भी सैनिक थे, वे उन दरबारियों की नकल करना चाहते थे जो फारसी में बात करते थे, इसलिए उन्होंने खाड़ी बोली में बहुत सारे फारसी शब्द मिलाए। मुग़लों ने इस भाषा को उर्दू का उपहासपूर्ण ढंग से बुलाया, जिसका अर्थ है, फौज की भाषा।

जब खादी बोली संस्कृत के अनेक शब्दों का मिश्रण हो तो उसे हिन्दी कहते हैं।

हिन्दी और उर्दू 350 वर्ष से अधिक पुराने नहीं हैं, जब फारसी और संस्कृत दोनों शब्दों को मिला दिया जाता है, तो इसे हिंदुस्तानी कहा जाता है।

हिन्दी को संस्कृत का प्रत्यक्ष वंशज कहना आज फैशन बन गया है। लेकिन मराठी हिंदी से बेहतर संस्कृत की वंशज है।


भारतेंदु हरिश्चंद्र अग्रवाल की कुछ महत्वपूर्ण कृतियाँ

  • विद्या सुंदरी
  • रत्नावली
  • विरोधाभासी विडंबना
  • धनंजय विजय
  • कपूर मंजरी
  • मुद्रा राक्षस
  • भारत माता
  • दुर्लभ भाइयों
  • वैदिक हिंसा से हिंसा नहीं होती
  • सत्य हरिश्चंद्र
  • श्री चंद्रावली विश्व विशोमुषाधाम
  • भारत की दुर्दशा
  • नील देवी
  • दुष्ट शहर
  • सती प्रताप
  • लव-जोगिनी

भारतेंदु की जीवनी

आधुनिक हिंदी साहित्य के जनक कहे जाने वाले भारतेंदु ने कुछ जीवनियां भी लिखी हैं, जिनमें सूरदास, जयदेव, महात्मा मोहम्मद की जीवनियां शामिल हैं। भारतेंदु जी बचपन से ही काफी होशियार थे, उन्होंने कई एक्ट और मैगजीन भी रिलीज की थी।


For More Info Watch This :


निष्कर्ष :

इस लेख में हमने आपको बताया, कि Father of Hindi किसे कहा जाता है ?

हमें उम्मीद है, कि हिंदी भाषा के जनक के बारे में यह पोस्ट पढ़कर आपको अच्छा लगा होगा। यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी है तो इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ताकि वह भी इसका लाभ उठा पाए।


FAQ

प्रश्न 1. आधुनिक हिन्दी साहित्य का जनक किसे कहा जाता है Or Father Of Hindi ?

उत्तर :- काशी में जन्में भारतेंदु हरिश्चंद्र अग्रवाल को आधुनिक हिंदी साहित्य का जनक कहा जाता है।

प्रश्न 2. भारतेंदु हरिश्चंद्र अग्रवाल ने किन कृतियों की रचना की थी ?

उत्तर :- हरिश्चंद्र जी ने अनेक कृतियों की रचना की, जिनमें ये निम्नलिखित हैं, विद्या सुंदर, रत्नावली, पखानु विदंबन, धनंजय विजय, 
कर्पूर मंजरी, मुद्राराक्षस, भारत जननी।

प्रश्न 3. भारतेन्दु हरिश्चंद्र द्वारा रचित उनके जीवन का प्रथम दोहा कौन सा था ?

उत्तर :- लाई ब्योदा थंडे भाये, श्री अनिरुद्ध सुजान, बाणासुर की सेना, भगवान का अपमान किया जा रहा है। 
यह हरिश्चंद्र जी द्वारा रचित पहला दोहा है। हरिश्चंद्र पत्रिका एतियादि की रचना सन् 1873 ई.

प्रश्न 5. भारतेंदु हरिश्चंद्र अग्रवाल कौन सी भाषाएं जानते थे?

उत्तर :- भारतेंदु जी ने कभी किसी स्कूल में पढ़ाई नहीं की, फिर भी उन्हें हिंदी, अंग्रेजी, फारसी, संस्कृत, मराठी, 
गुजराती आदि भाषाओं का ज्ञान था।

प्रश्न 4. भारतेंदु हरिश्चंद्र ने किन पत्रिकाओं की रचना की थी?

उत्तर :- भारतेंदु जी ने 2 महत्वपूर्ण कार्यों का संपादन किया था, जो निम्नलिखित हैं। 'कवि-वचन-सुधा', जिसकी रचना 1868 ई. मे हुई।

Read Also :-

Leave a Reply

Your email address will not be published.